राजनीतिक उपनाम या उपाधि

सब आँखों की दृष्टि है या कुदृष्टि है …आज समझ आ रहा है कि ….पिछले 70 सालों में जिन-जिन लोगों को जो नाम व उपनाम या उपाधि .. कांग्रेस गवर्मेंट ने प्रदत्त किये … सब केवल छलावा था ….. हक़ीक़त व ईमानदारी से बहुत दूर ।। चंद उदहारण …ओरिजनल गाँधी …

Back to Top